सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अन्तर्राजीय सम्बन्ध /Inter -State Relations (Indian Polity )एम.लक्ष्मीकांत



अंतर्राज्यीय सबंध -भारतीय संघीय ब्यवस्था की सहायता मात्र केंद्र तथा राज्यों के सौहार्दपूर्ण के अन्तर्सम्बन्धों पर भी निर्भर करती है। संविधान ने अंतर्राजीय सौहार्द के सम्बन्ध में   प्रावधान हैं।
अंतर्राज्यीय जल विवाद -संविधान के अनुच्छेद 262 अंतर्राज्यीय जल विवादों से सम्बंधित है जिसमे दो प्रावधान हैं -;संसद कानून बनाकर अंतर्राजीय नदियों तथा नदी घाटियों के प्रयोग बंटवारे तथा नियंत्रण से सम्बंधित किसी विवाद पर शिकायत का निपटारा कर शक्ति है ,संसद यह भी ब्यवस्था कर सकती है की ऐसे किसी विवाद में ना ही उच्चतम न्यायालय और ना ही कोई अन्य न्यायालय अपने अधिकार क्षेत्र का प्रयोग करे।
अंतर्राजीय जल विवाद अधिनियम केंद्र सरकार को नदी अथवा नदी घाटी के जल के सम्बन्ध में दो अथवा अधिक राज्यों के मध्य विवाद के निपटारे हेतु एक अस्थाई न्यायालय की गठन की शक्ति प्रदान करता है जिसका निर्णय अंतिम एवं विवाद से सम्बंधित सभी पछों के लिए मान्य होता है। यदि जल विवादों से विधिक या हित जुड़े हुए तो उच्चतम न्यायालय को यह अधिकार है की वह राज्यों के मध्य विवादों की स्थिती में उनसे जुड़े मामले की सुनवाई कर सकता है लेकिन इस सम्बन्ध में विश्व के बिभिन्न देशों में अनुभव किया गया है की विवादों में निजी हित सामने आने पर विवादों का निपटारा सही तरीके से नहीं हो पाता।
अंतर्राज्यीय परिषदें -अनुच्छेद 263 राज्यों के मध्य तथा केंद्र और केंद्र राज्य  समन्वय हेतु अंतर्राज्यीय परिषद् के गठन की ब्यवस्था करता है ऐसे यदि राष्ट्रपति किसी समय्याह महसूस करे की ऐसी परिषद का गठन सार्वजनिक हित में है तो वह ऐसी परिषद् का गठन करता है और उनके कर्तव्यों का निर्धारण करता है जो इस प्रकार है जैसे -; राज्यों के मध्य विवादों की जांच सलाह देना ,केंद्र एवं राज्य के सामान्य हित के विषयों पर विचार विमर्श करना।
अंतर्राज्यीय ब्यपार तथा वाणिज्य -संविधान के भाग 13 के अनुच्छेद 301 से 307 में भारतीय क्षेत्र में ब्यापार वाणिज्य का वर्णन है ,अनुच्छेद 301 घोषणा करता है की सम्पूर्ण भारतीय क्षेत्र में ब्यापार वाणिज्य  तथा समागम स्वतंत्र होगा जिसका उद्देश्य राज्यों के मध्य अवरोधों को हटाना तथा देश में ब्यापार के प्रवाह को बढ़ाना है पर संसद कुछ मामलों में इन पर प्रतिबन्ध लगा सकती है जैसे -; सार्वजनिक हित में पर एक राज्य के ऊपर दुसरे राज्य को वरीयता नहीं दे सकती शिवाय बस्तुओं की कमी के आधार पर ,किसी राज्य की विधायिका सार्वजनिक हित में उस राज्य अथवा उस राज्य के अंदर ब्यापार की स्वंत्रता पर प्रतिबन्ध लगा सकती है पार इस उद्देश्य हेतु विधेयक राष्ट्रपति की पूर्वानुमति से ही विधानमंडल में पेश किया जा सकता है। किसी राज्य की विधायिका दूसरे राज्य से आयतित उन बस्तुओं पर कर लगा सकती है जो उस राज्य में उत्पादित होते हैं।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अनसूचित जाति एवं जनजाति के लिए राष्ट्रीय आयोग /National Commission For Scs & STs - Indian Polity

अनसूचित जाति एवं जनजाति के लिए राष्ट्रीय आयोग - राष्ट्रीय अनसूचित आयोग एक संवैधानिक निकाय है जिसका गठन संविधान के अनुच्छेद 338 के तहत किया गया है इसमें एक अध्यक्ष और उपाध्यक्ष एवं तीन अन्य सदस्य होते हैं यानी की ये एक बहुसदस्यीय निकाय है जिनकी नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा उसके आदेश एवं मोहर लगे पात्र द्वारा की जाती है और इनकी सेवा शर्तें एवं कार्यकाल राष्ट्रपति द्वारा निर्धारित किये जाते हैं।  आयोग के कार्य - (1) अनसूचित जातियों के संवैधानिक संरक्षण से सम्बंधित सभी मामलों का निरीक्षण एवं अधीक्षण करना ,अनसूचित जातियों के हितों का उल्लंघन करने वाले किसी मामले की जांच पड़ताल एवं सुनवाई करना।  (2) अनसूचित जातियों के सामाजिक विकाश से सम्बंधित योजनाओं के निर्माड के समय सहभागिता करना एवं परामर्श देना और उनके विकाश से सम्बंधित कार्यों का मूल्यांकन करना।  (3) संरक्षण के सम्बन्ध में उठाये गए क़दमों के बारे में राष्ट्रपति को प्रतिवेदन प्रस्तुत करना ,इनके संरक्षण हेतु केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा उठाये गए क़दमों की समीक्षा करना और उचित सिफारिस करना।  (4) राष्ट्रपति के आदेश पर अनसूचित जातियों के सामा…

संघ लोकसेवा आयोग /Union Public Service Commission- Indian Polity

संघ लोकसेवा आयोग - संघ लोकसेवा आयोग भारत का केंद्रीय भर्ती संस्था है जोकि एक स्वतंत्र एवं संवैधानिक संस्था है जिसका उल्लेख्य संविधान के भाग 14 के अनुच्छेद 315 से 323 तक इसके शक्ति एवं कार्य और इसके सदस्यों की नियुक्ति आदि का उल्लेख्य किया गया है।  आयोग की संरचना- संघ लोकसेवा आयोगमे एक अध्यक्ष एवं कुछ अन्य सदस्य होते हैं पर इनकी संख्या अध्यक्ष सहित 10 से 11 तक हो सकती है जोकि भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त होते हैं पर आयोग के सदस्यों की योग्यता का कोई उल्लेख्य नहीं किया गया है लेकिन आयोग के आधे सदस्यों को भारत या राज्य सरकार के आधीन 10 वर्ष तक काम करने का अनुभव हो।  इनका कार्यकाल 6 वर्ष या 65 की उम्र तक होता है जो भी पहले पूरा हो पर वे कभी भी रस्ट्रपति को अपना  त्यागपत्र सौंप सकते हैं या उन्हें कार्यकाल से पहले राष्ट्रपति के द्वारा हटाया जा सकता है।  निष्कासन - राष्ट्रपति संघ लोकसेवा आयोग के सदस्यों को इन परिस्थितियों में हटा सकता है -; उसे दीवालिया घोषित कर दिया जाता है ,अपने पद के दौरान किसी और लाभ के पद में लगा हो ,यदि राष्ट्रपति समझता है की वह मानशिक या अछमता के कारण पद पर बने …

वित्त आयोग /Finance Commission- Indian Polity

वित्त आयोग - संविधान में अनुच्छेद 280 के अंतर्गत अर्ध न्यायिक संस्था के रूप में वित्त आयोग की ब्यवस्था की गयी है जिसका गठन राष्ट्रपति के द्वारा हर पांचवे वर्ष किया जाता है। जिसमे एक अध्यक्ष और चार अन्य सदस्य होते हैं यानि की वित्त आयोग बहु सदस्यीय संस्था है जिनकी नियुक्त राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है और इनके कार्यकाल का निर्धारण राष्ट्रपति ही करता है और इनकी पुनर्नियुक्ति भी हो सकती है।  योग्यता - संविधान ने संसद को इन सदस्यों की योग्यता का निर्धारण का अधिकार दिया है जिसके तहत संसद ने आयोग के अध्यक्ष एवं सदस्यों की विशेष विशेष योग्यताओं का निर्धारण किया गया है  अध्यक्ष सार्वजनिक मामलों का अनुभवी होना चाहिए , एक सदस्य उच्च न्यायालय का न्यायधीश या इस पद के योग्य ब्यक्ति।  दूसरा सदस्य जिसे भारत के लेखा एवं वित्त मामलों का विशेष ज्ञान हो।  तीसरा सदस्य जिसे प्रशासन एवं वित्तीय मामलों का अनुभव हो।  चौथा सदस्य अर्थसास्त्र का विशेष ज्ञाता हो।  कार्य - वित्त आयोग राष्ट्रपति को इन मामलों में सिफारिस करता है -; (1) संघ और राज्यों के बीच करों के सुद्ध आगमों का वितरण और राज्यों के बीच ऐसे आगमों…