सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अगस्त, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पृथ्वी की आंतरिक संरचना कैसी है /How is The Internal Structure of The erth-Indian Geography

पृथ्वी की आंतरिक संरचना कैसी है पृथ्वी की धरातलीय संरचना मुख्यरूप से पृथ्वी के अंदर होने वाली प्रक्रियाओं का परिणाम है पृथ्वी की बाहरी एवं अंदर होने वाली प्रक्रियाएं पृथ्वी को आकार देती हैं इसलिए पृथ्वी की आंतरिक संरचना के बारे में जानना जरूरी है और पृथ्वी का निर्माण करने वाली भूपर्पटी से क्रोड तक सभी पदार्थ परत में बिभाजित हैं।  पृथ्वी की त्रिज्या 6370 किलोमीटर है और पृथ्वी की आंतरिक स्थिति के बारे में जानने के लिए विभिन्न स्रोतों का सहारा लेना पड़ता है।  भूकंप -भूकंप एक प्राकृतिक घटना है जिसमे ऊर्जा निकलने के कारण तरंगें उत्पन्न होती हैं जो सभी दिशाओं में फैलकर भूकंप लाती हैं वह स्थान जहां से ऊर्जा निकलती है भूकंप का उद्गम केंद्र कहलाता है जिसे अवकेंद्र भी कहा जाता है। और तरंगे पृथ्वी के धरातल पर सबसे पहले पहुँचती हैं अधिकेंद्र कहलाता है। और इसी स्थान पर भूकंप सबसे ज्यादा प्रभाव देखा  जाता है। भूकम्पीय तरंगें दो प्रकार की होती हैं p तरंगे s तरंगे धरातल पर सबसे पहले p तरंगें पहुँचती हैं और ये तरंगें गैस,तरल,ठोस तीनों पदार्थ से गुजर सकती हैं और s तरंगें धरातल पर कुछ देरी से पहुँचती हैं औ…